Bewafa Shayari in Hindi | बेवफा शायरी | Dard Bhari Bewafa Shayari

Bewafa Shayari in Hindi सैड शायरी की दुनिया में बेवफा शायरी बेहद प्रसिद्ध है बेवफा शायरी, अक्सर कोई जब प्यार में धोखा पाता है तो वह इंसान अपनी भावना ब्यक्त करने के लिए हिंदी बेवफा शायरी का मदत लेता है

Bewafa Shayari in Hindi

Bewafa Shayari

हम तो उसके प्यार में इतना दीवाना थे
के हमको ये पता ही ना चला के
उसने कब हमसे बेवफाई करली।

Hum Toh Uske Pyar Me Itna
Deewana The Ke Humko Pata Hi
Na Chala Ke Usne Kab Hum
Se Bewafai Karlie

वो बेवफा है तो क्या
मत कहो बुरा उसको
की जो हुआ सो हुआ
खुश रखे खुदा उसको

Wo Bewafa Hai To Kya
Mat Kaho Bura Usko
Ki Jo Hua So Hua
Khush Rakhe Khuda Usko

वो सुना रहे थे अपनी वफा के किस्से
हमें देखा तो खामोश हो गई।

वो किसी की दिल नहीं तोड़ती हैं
मैं उसको हर एक ID से परख चुका हूं

हमने भी किसी से प्यार किया था
हाथों में फूल लेकर इंतजार किया था
भूल उनकी नही भूल तो हमारी थी
क्यों की उन्होंने नहीं बल्कि
हमने उनसे प्यार किया था!

जिनसे थे मेरे नैन मिले,
बन गए थे ज़िन्दगी के सिलसिले ।
इतना प्यार करने के बाद भी,
सनम मेरे बेवफा निकले।

Jinase the mere nain mile,
ban gae the zindagee ke silasile .
Itana pyaar karane ke baad bhee,
sanam mere bewafa nikale.

बेवफा शायरी

Bewafa Shayari

पहले इश्क फिर धोखा फिर बेवफाई
बड़ी तरतीब से एक सख्स ने तबाह किया मुझे

Pahale ishq fir dhokha fir Bewafai
Badi tartib se ek sakhs ne tabaah kia mujhe.

भुला दूंगा तुम्हे भी थोड़ा सबर रखना
तुम्हारी तरह बेवफा होने में थोडा वक्त लगेगा

Bhula dunga tumhe bhi thoda sabar rakhna.
Tumhari tarah bewafa hone mein thoda waqt lagega.

अपने गुरूर को आजमाने की जिद थी.
वरना हमें मालूम था की तुम बेवफा हो जाओगे.

Apne guroor ko zmane ki zid thi,
Warna hamen bhi maloom tha ki tum bewafa ho jaoge.

“बेवफा बनाने से पहले, वफ़ा निभाना पड़ता है।”

“आपकी खुदगर्ज़ी की वजह से,
वो इंसान फिर किसी और पर भरोसा नहीं करता।”

“हकीकत मान बैठे थे उनके प्यार को,
उन्होंने याद दिलाया, ये तो बस एक ख्वाब है।”

“लोग कहते है बड़ी खूबसूरती है
मेरी मुस्कान में, अंदर के घाव देखेंगे तो चौक जाएंगे।”

“अगर दिल वफादार ना हो तो,
नजदीकियां कितनी भी मायने नहीं रखती।”

आज तो तुमने साबित कर ही दिया की
तुम्हारी जिंदगी में मेरी कोई अहमियत नहीं है💔💔

जिंदगी तो मेरी भी सेटल ही थी
लेकिन क्या करें किसी के धोखे ने
पूरी जिंदगी को बिखेर कर रख दिया

आज पता नहीं क्यों ऐसा लग रहा है
की इस दुनिया में मेरा कोई नहीं है।

दुआ करो यारों
आज ऐसी नींद आए की
कल मेरी आंख ही ना खुले

मेरा भी एक सपना था कि मुझे भी कोई
इतना प्यार करें जितना मैं करता हूं
लेकिन बाद में पता चला कि
सपने सुबह के हो या रात के
सपने सच नहीं हुआ करते।

Dard Bhari Bewafa Shayari

ये बेवफा😔 वफा💑 की कीमत क्या जाने
ये बेवफा😔 गम-ए-मोहब्बत💘 क्या जाने
जिन्हें मिलता है हर मोड पर नया हमसफर
वो भला प्यार❤️ की कीमत क्या जाने

काश कैद कर ले वो पागल,
मुझे अपनी डायरी में…
जिसका नाम छिपा होता है
मेरी हर शायरी में…

तुम नहीं मिले तो क्या हुआ😑
सबक़ तो मिल गया…🙁

टूटे हुए प्याले में जाम नहीं आता,
इश्क़🧡 में मरीज को आराम नहीं आता,
ये बेवफा😔 दिल💔 तोड़ने से पहले ये सोच तो लिया होता,
के टुटा हुआ दिल💔 किसी के काम नहीं आता

चलो मान लिया कि हम बेवफा थे
और हमने बेवफाई की,
बस इतना बता दे कि
तू इतना बदनाम क्यों है?

हमने मोहब्बत भी की तो
वो भी वफ़ादारी से की थी,
अब कोई उन्हें बेवफा कहे
ये हमें बर्दाश्त नहीं।

उसके इश्क में बर्बाद होने की
ख्वाहिश थी मेरी वर्ना,
वो बेवफा है इसका इल्म
हमें इक अरसे से था।

हमें जिंदगी में जो ये दर्द मिला है
इक बेवफा से दिल लगाने का सिला है,
जख्म बदन पे मिलते तो सह लेते
चोट रूह ने खायी है बस यही गिला है।

दिल के दरिया में धड़कन की कश्ती है,
ख़्वाबों की दुनिया में यादों की बस्ती है,

मोहब्बत के बाजार में चाहत का सौदा है,
वफ़ा की कीमत से तो बेवफाई सस्ती है।

अपनी ही एक ग़ज़ल से कुछ यूँ ख़फ़ा हूँ
मैंज़िक्र था जिस बेवफ़ा का, वही बेवफ़ा हूँ मैं।

कोई मिला ही नहीं जिसको वफा देते
हर एक ने दिल तोड़ा,किस-किस को सजा देते।

Bewafa Shayari

ना उड़ाओ यूं ठोकरों से मेरी खाके कब्र ज़ालिम,
यही एक रह गई है मेरे प्यार की निशानी।

बस तुम्हेँ पाने की तमन्ना नहीँ रही
मोहब्बत तो आज भी तुमसे बेशुमार करतेँ हैँ

तेरी मोहब्बत की तलब थी इस लिए हाथ फैला दिए
वरना हमने तो कभी अपनी ज़िंदगी की दुआ भी नही माँगी

मोहब्बत इंसान को इतना कुछ सीखा देती है
जो वो पूरी ज़िन्दगी में नही सीख पाता

फिर ग़लतफैमियो में डाल दिया,
जाते हुए मुस्कुराना ज़रूरी था

यहाँ हर किसी को, दरारों में झाकने की आदत है
दरवाजे खोल दो, कोई पूछने भी नहीं आएगा

सुलाके सबको गहरी नींद में
फिर अकेला क्युं अंधेरा जागता है

Bewafa Shayari in Hindi | बेवफा शायरी | Dard Bhari Bewafa Shayari

Add a Comment

Your email address will not be published.