Olive Oil in Hindi | Olive oil Benefits in Hindi | Jetun oil | Jetun ka Tel | Jetun ke Tel ke Fayde

Olive Oil in Hindi ऑलिव ऑयल को ही हिंदी में जैतून का तेल भी कहा जाता है. इसके फायदे हमें कई परेशानियों को दूर करने में मदद करते हैं. जैतून के पेड़ ज्यादातर मध्य क्षेत्रीय प्रदेशों में पाए जाते हैं. Olive Oil in Hindi लेकिन अब इसके औषधीय गुणों को देखते हुए इसकी लोकप्रियता में काफी वृद्धि हुई है और दुनिया भर में इसे उगाया जाता है. हालांकि जब भी आप बाजार से ऑलिव ऑयल लेते हैं तो इसकी गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है. Jetun oil क्योंकि बाजार में कम गुणवत्ता वाले जैतून के तेल भी खूब बिकते हैं. सबसे अच्छा ऑलिव ऑयल उसे माना जाता है जो कोल्ड प्रेस्ड होता है. इसमें सबसे अच्छा स्वाद और गंध मौजूद होता है. जैतून के तेल की खास बात यह है Jetun ka Tel कि इसका इस्तेमाल आंतरिक और बाह्य दोनों तरीके से किया जा सकता है. इसके अलावा इसका इस्तेमाल स्वास्थ्य के साथ-साथ सुंदरता के लिए भी किया जाता है. आइए ऑलिव ऑयल के फायदे और नुकसान को विस्तार से समझें. Jetun ka Tel

सरसों का तेल, कनोला ऑयल, नारियल का तेल, एवेकाडो ऑयल, मूंगफली का तेल, ऑलिव ऑयल, अलसी का तेल, पामोलीन ऑयल, लिस्ट बहुत लंबी है। खाने-पकाने के लिए तेल के बहुत सारे विकल्प हैं, मगर कौन सा तेल सेहत के लिए सबसे अच्छा है? खाने और सेहत को लेकर फिक्रमंद लोग अक्सर इस सवाल से दो चार होते हैं। खाना पकाने के लिए इस्तेमाल होने वाले तेल अक्सर उसके फल, पौधे, बीज या नट से तय होते हैं। Jetun ke Tel ke Fayde इन्हें कुचलकर, दबाकर या प्रॉसेस करके निकाला जाता है। तेल की सबसे बड़ी खूबी ये होती है कि उसमें फैट की मात्रा काफी होती है। इसमें सैचुरेटेड फैट, मोनोसैचुरेटेड फैट और पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड शामिल होते हैं। Jetun ke Tel ke Fayde

Olive Oil in Hindi | Olive oil Benefits in Hindi | Jetun oil | Jetun ka Tel | Jetun ke Tel ke Fayde
Olive Oil in Hindi | Olive oil Benefits in Hindi | Jetun oil | Jetun ka Tel | Jetun ke Tel ke Fayde

इसे भी पढ़ेंः 

ऑलिव ऑयल के फायदे – Olive Oil Benefits in Hindi

  1. वजन घटाने में
    ऑलिव ऑयल में मौजूद Olive oil Benefits in Hindi स्वस्थ मोनो सैचुरेटेड फैट, पेट की चर्बी और वजन को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यदि सही मात्रा में इसका उपयोग किया जाए तो आप अपना वजन आसानी से कम कर सकते हैं. मोटापे से बचने के लिए आपको रोजाना एक से दो चम्मच ऑलिव ऑयल का प्रत्येक सुबह सेवन करना होगा.
  2. सूजन के लिए
    ऑलिव ऑयल में सूजन को कम करने के गुण भी मौजूद होते हैं. विशेष रुप से लंबे समय से चले आ रहे सूजन को कम करने में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है. इसके अलावा कैंसर, अल्जाइमर, ह्रदय रोग, मधुमेह और गठिया जैसी बीमारीयों को भी दूर कर सकता है.
  3. बालों के लिए
    जैतून के तेल में फैटी एसिड और कई सारे एंटीऑक्सीडेंट्स के साथ ही विटामिन ई भी भरपूर मात्रा में पाई जाती है. इसमें मौजूद ये सभी तत्व, सूखे और क्षतिग्रस्त बालों के इलाज में काफी उपयोगी साबित होते हैं. इससे दो मुंह वाले बालों की समस्याओं का भी उचित समाधान होता है.
  4. कोलेस्ट्रॉल को कम करने में
    ऑलिव ऑयल का उपयोग करने से आपके शरीर में कम घनत्व कम घनत्व वाले लियोप्रोटीन या यूँ कहें कि खराब कोलेस्ट्रॉल में काफी कमी आती है. इससे धमनियों में संकुचन पैदा हो सकता है. इसके उलट जैतून का तेल हमारे शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को भी बढ़ाता है जो कि सुरक्षा सुरक्षा भूमिका निभाता है. जैतून के तेल की सहायता से आप का दिल मजबूत होता है और दौरा पड़ने की संभावना में कमी आती है.
  5. कैंसर के उपचार में
    जैतून के तेल में मौजूद पॉलीफाइनल एंटीऑक्सीडेंट्स आपके शरीर में सूजन को कम करने के साथ ही कैंसर के जोखिम को भी कम करते हैं. इसके लिए आपको शुद्ध जैतून के तेल का एक से दो चम्मच रोजाना इस्तेमाल करना चाहिए.
  6. चेहरे के लिए
    ऑलिव ऑयल को त्वचा की नमी के लिए एक अच्छा मॉइस्चराइजर माना जाता है. इसमें विटामिन ए और ई के साथ ही फैटी एसिड भी पाया जाता है. जिससे आपके शरीर की त्वचा में झुर्रियों का बनना तो रुकता ही है चेहरे पर पड़ने वाली लाइंस को भी रोकता है.
  7. उच्च रक्तचाप में
    ऑलिव ऑयल की सहायता से आप उच्च रक्तचाप में राहत पा सकते हैं. इसके अलावा खाने में जैतून का तेल इस्तेमाल करने से हमारे शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार आता है. इससे रक्तचाप की समस्या भी दूर होती है.
  8. हड्डियों की मजबूती के लिए
    जैतून के तेल की मालिश करने से आपके शरीर की हड्डियों मैं मजबूती आती है. ऑलिव ऑयल के इस्तेमाल से ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा भी कम होता है. इसलिए हड्डियों के स्वस्थ्य को ध्यान में रखते हुए इसका इस्तेमाल करें.
  9. दिमाग के लिए
    जैतून के तेल के नियमित इस्तेमाल से संज्ञानात्मक जोखिम को कम किया जा सकता है. इसके साथ ही दिमाग में होने वाली परेशानियों जैसे अल्जाइमर डिमेंशिया को दूर करने में भी इसकी भूमिका होती है. इसके अलावा ये डिप्रेशन के खतरे को कम कर सकता है.

नोट : अगर आपको जैतून तेल के सेवन के बाद या उसे लगाने के बाद किसी प्रकार की एलर्जी, जलन या असहजता महसूस हो, तो तुरंत इसका उपयोग बंद कर दें और अपने डॉक्टर से पूछें। इसके अलावा, अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है, आपको जल्द ही किसी चीज से एलर्जी होती है या आप किसी तरह की दवाई का सेवन कर रहे हैं, तो इस तेल को उपयोग करने से पहले डॉक्टर की राय जरूर लें।

किसी भी चीज का जरूरत से ज्यादा उपयोग हानिकारक हो सकता है। जैतून तेल पर भी यह नियम लागू होता है, लेकिन डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि ऑलिव ऑयल के फायदे अनेक हैं। अगर इसे सही तरीके से उपयोग किया जाए, तो यह शरीर के लिए वरदान साबित हो सकता है। अगर आप इसके नुकसान को जानकर किसी तरह का निष्कर्ष निकाल रहे हैं, तो बेहतर होगा पहले आप इसका उपयोग करें और अपने अनुभव के आधार पर राय बनाएं। साथ ही जैतून तेल के फायदे वाला यह आर्टिकल दूसरों के साथ शेयर कर, इसके गुणों से सबको अवगत कराएं।

Olive Oil in Hindi | Olive oil Benefits in Hindi | Jetun oil | Jetun ka Tel | Jetun ke Tel ke Fayde

Leave a Comment