होम Lifestyle नई रिसर्च: ट्रैफिक का शोर भी हार्ट के लिए खतरनाक, 5 डेसिबल...

नई रिसर्च: ट्रैफिक का शोर भी हार्ट के लिए खतरनाक, 5 डेसिबल तक शोर अधिक बढ़ने पर हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा 35% तक बढ़ जाता है

0
  • हिंदी समाचार
  • सुखी जीवन
  • ट्रैफिक शोर भी हार्ट अटैक के खतरे को बढ़ाता है, हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा 35% तक बढ़ जाता है जब शोर 5 डेसिबल तक बढ़ जाता है।

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

ध्वनि प्रदूषण भी दिल की सेहत को बिगाड़ता है। तेजी से उठता शोर हार्ट के लिए मुश्किलें बढ़ा रहा है। यूरोपियन हार्ट जर्नल में पब्लिश रिसर्च कहती है, लम्बे समय तक ट्रैफिक के शोर के बीच रहने से हृदय रोगों का खतरा बढ़ जाता है।]

500 लोगों पर 5 साल तक स्टडी हुई
ट्रैफिक और हवाई जहाज से होने वाले शोर का असर जानने के लिए सड़क और टर्मिनल के किनारे रहने वाले लोगों पर 5 साल तक रिसर्च की गई। अनुसंधान में 500 लोगों को शामिल किया गया। शोधकर्ताओं ने पाया कि औसतन 24 घंटे में शोर का स्तर 5 डेसिबल बढ़ाने पर हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा 35 फीसदी तक बढ़ जाता है।]

ऐसा क्यों होता है, अब यह समझ में आता है
अनुसंधान में शामिल लोगों पर शोर का क्या असर पड़ रहा है, यह समझने के लिए उनकी ब्रेन कैंसर की गई है। रिपोर्ट में सामने आया कि शोर बढ़ने पर उनके ब्रेन के उस हिस्से पर बुरा असर पड़ा है जो तनाव, बेचैनी और डर को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार होता है।

जब तनाव और बेचैनी बढ़ती है तो शरीर इनसे लड़ने के लिए एड्रिनेलिन और कॉर्टिसोल जैसे स्ट्रेस हार्मोन को नियंत्रित करता है। तनाव और बेचैनी की स्थिति में ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है, शोधन क्षमता कम हो जाती है। शरीर में फैट और शुगर का सर्कुलेशन तेज हो जाता है। इसका असर हार्ट पर पड़ता है।

न्यू रिसर्च कहती है, अधिक शोर होने पर धमनियों में सूजन भी आई। दिल पर दबाव और बढ़ा। रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक, ध्वनि प्रदूषण नींद पर बहुत बुरा असर डालता है। रात में प्लेन के कारण होने वाले शोर से मेटबॉलिज्म पर भी बुरा असर पड़ता है।

बहुत होना चाहिए ध्वनि का स्तर
ध्वनि यानी साउंड को डेसिबल में ध्वनि जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, 55 डेसिबल से अधिक ध्वनि का स्तर शोर पैदा करता है और सेहत को नुकसान पहुंचता है। कार और ट्रक से लगभग 70 से 90 डेसिबल तक शोर होता है। वहीं, सायरन और हवाई जहाज से 120 डेसिबल या इससे अधिक ध्वनि प्रदूषण होता है।

खबरें और भी हैं …

Source link

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here